बिहार समाचार: नीतीश कुमार व तेजस्वी यादव के बीच बढ़ी दूरियां,नीतीश की बीजेपी साथ होगी वापसी , 28 जनवरी को होगा शपथ ग्रहण

Spread the love

बिहार समाचार: नीतीश कुमार व तेजस्वी यादव के बीच बढ़ी दूरियां,नीतीश की बीजेपी साथ होगी वापसी , 28 जनवरी को होगा शपथ ग्रहण, सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार गुरुवार की शाम सीएम आवास पर नीतीश कुमार से मिलने के लिए ललन सिंह के अलावा संजय झा, विजय चौधरी और उमेश कुशवाहा पहुंचे हैं। बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार के साथ इन नेताओं की अहम बैठक होगी। इस बीच राज्य के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने राबड़ी करीबी नेताओं को बुलाया है। राजद के मुख्य प्रवक्ता व प्रवक्ता वहां मौजूद है। जानकारी के अनुसार राजद के शीर्ष नेतृत्व सभी तथ्यों पर नजर रख रहा है।

बिहार में राजनीतिक उथल-पुथल के बीच कुछ पुराने वीडियो हो रहा है वायरल जिन्हें देखकर कहा जा सकता है कि राजनीति कुछ भी कर सकती है।

जीवन भर बीजेपी में नहीं जाएंगे

 भाजपा के साथ जदयू के संभावित पुनर्मिलन की अटकलों के बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजभवन से समय मांगा है। इस बीच, सूत्रों ने कहा कि राजद ने दावा किया है कि पार्टी जदयू विधायकों के संपर्क में है।

नीतीश कुमार ने पटना के राजभवन में उच्च चाय समारोह में भाग लिया, जहां उनके डिप्टी तेजस्वी यादव अनुपस्थित रहे। राज्य में जारी सियासी घमासान के बीच सभी कांग्रेस विधायकों को कल पूर्णिया पहुंचने को कहा गया है। पूर्णिया में दोपहर 1 बजे कांग्रेस विधायकों की बैठक होगी।

बिहार राजनीतिक उठापटक के बीच यह मीम हो रहा है सोशल मीडिया पर वायरल

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू यादव की अपनी पार्टी के नेताओं के साथ पटना में मुलाकात, बीजेपी आलाकमान द्वारा बिहार के अपने नेताओं को दिल्ली पहुंचने के लिए कहना और बीजेपी नेता सुशील मोदी द्वारा वंशवाद की राजनीति पर हमले के लिए नीतीश कुमार की प्रशंसा करना, इन अटकलों को हवा दे रहा है. 2024 लोकसभा चुनाव से पहले पुराने सहयोगियों के बीच गठबंधन संभव।

इसके अलावा, 30 जनवरी को बिहार में प्रवेश करने वाली कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ में शामिल होने से नितीश कुमार के इनकार ने अफवाहों को और हवा दे दी। बीजेपी बिहार की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक 27 और 28 जनवरी को बुलाई गई है। सूत्रों ने बताया कि बिहार प्रभारी विनोद तावड़े कल यानी 27 जनवरी को पटना जाएंगे।

यह भी पढ़े आज का राशिफल

दरअसल, नीतीश कुमार ने जननायक कर्पूरी ठाकुर की 100वीं जयंती पर बुधवार को परिवारवाद पर जमकर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि कर्पूरी ठाकुर ने कभी परिवार को आगे नहीं बढ़ाया। उन्हीं से प्रेरणा लेकर मैंने भी अपने परिवार के किसी व्यक्ति को आगे नहीं बढ़ाया। कर्पूरी ठाकुर के निधन के बाद ही उनके पुत्र रामनाथ ठाकुर को आगे बढ़ाया। लेकिन आज तो लोग परिवारवाद को आगे बढ़ाते हैं। नीतीश कुमार ने यह भी कहा था कि राज्य के हित में काम करता रहता हूं। राज्य के हित के लिए जो भी करना होगा, करेंगे।

हालांकि, बिहार भाजपा के नेताओं ने इसे लेकर अंतिम फैसला करने का जिम्मा पार्टी आलाकमान पर छोड़ दिया है। यह भी बताया जा रहा है कि दिल्ली में होने वाली इसी बैठक में पार्टी आलाकमान की तरफ से बिहार प्रदेश अध्यक्ष सहित सभी नेताओं को नीतीश कुमार के मसले पर कोई विवादित बयान नहीं देने की हिदायत भी दी जा सकती है।

चिराग पासवान कह दी यह बात

चिराग पासवान

इसके बाद अमित शाह या पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ताजा राजनीतिक हालात के बारे में जानकारी देंगे और इसके बाद ही भाजपा नीतीश कुमार की तरफ से आए संकेतों पर कोई अंतिम फैसला करेगी। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार रात को अमित शाह और जेपी नड्डा के साथ लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर बड़ी बैठक की थी। सूत्रों की माने तो तीनों नेताओं की इस उच्चस्तरीय बैठक में भी बिहार के राजनीतिक हालात और नीतीश कुमार के स्टैंड को लेकर चर्चा हुई थी।

2 thoughts on “बिहार समाचार: नीतीश कुमार व तेजस्वी यादव के बीच बढ़ी दूरियां,नीतीश की बीजेपी साथ होगी वापसी , 28 जनवरी को होगा शपथ ग्रहण”

Leave a Comment