गाजीपुर: बस हादसे में गई कइयों की जान, हाई टेंशन लाइन के संपर्क में आने से बस में लगी आग, मुख्यमंत्री ने किया मुआवजे का ऐलान

Spread the love

गाजीपुर: बस हादसे में गई कइयों की जान, हाई टेंशन लाइन के संपर्क में आने से बस में लगी आग, मुख्यमंत्री ने किया मुआवजे का ऐलान

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले से बड़ी खबर आ रही है गाजीपुर जिले में बड़ा बस हादसा हुआ है। जिले में सोमवार को बड़ा हादसा हुआ है।हादसे में कई लोगों की मौत हो गई है। कई लोग झुलस गए हैं। सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हादसे के बाद मौके पर चीख-पुकार मच गई। हादसे का शिकार हुई बस बरातियों से भरी बताई जा रही है। महाहर धाम से 400 मीटर पहले सुलेमापुर-देवकली नहर के बगल करंट प्रवाहित तार सवारी बस में फंसने से निकली चिंगारी से बस में आग लग गई और देखते ही देखते बस धूं-धूं कर जल उठी। 32 सीटर बस में सवार पांच लोग जिंदा जलने की खबर है। जबकि दस लोग करंट झुलस उठे, जिनकी हालत गंभीर बताई जा रही है। सभी को इलाज के लिए मऊ और गाजीपुर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया।

यह भी पढ़े रमजान के चांद का हुआ दीदार

मऊ जिले के रानीपुर थाना क्षेत्र के खिरिया (काजा) गांव से निवासी नंदू पासवास की बेटी का शादी की शादी जिले के करीमुद्दीनपुर इलाके के कटेरिया मुहम्मदपुर गांव के तेज बहादुर पासवान के साथ तय हुई थी। यह शादी दोनों परिवार के लोगों की रजामंदी से महाहर धाम में संपन्न होनी थी। इसी शादी में शामिल होने के लिए लड़की पक्ष के लोग एक बस से आ रहे थे। वे दोपहर 1.46 बजे सुलेमापुर-देवकली नहर किनारे पहुंची थी लटक रहे विद्युत प्रवाहित हाई टेंशन तार बस में फंस गई और बस में आग लग गई। बस में सवार पांच लोग जिंदाजल मरे। जबकि बस में सवार दस और यात्री झुलस गए।

हादसे के बाद हुआ पथराव


आसपास के लोगों ने नहर के पानी से आग पर काबू पाया और घटना की जानकारी पुलिस को दी। साथ ही आक्रोशित लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। वहीं, पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर तितर-बितर करने की कोशिश की। हालांकि फायर बिग्रेड की दो गाड़ी के साथ जिलाधिकारी आर्यका अखौरी, पुलिस अधीक्षक ओमवीर सिंह ने लोगों को समझाबुझाकर शांत कराया और राहत बचाव शुरू किया।

हादसे के बाद मंत्री अनिल राजभर ने दी जानकारी

हादसे के बाद मंत्री अनिल राजभर ने दी जानकारी

गाजीपुर हादसे पर उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री अनिल राजभर ने बताया, “हादसा दुखद है। जैसे ही मुख्यमंत्री को पता चला उन्होंने हमें घटनास्थल पर भेजा। पीड़ितों के परिजनों से भी मैंने मुलाकात की है। सरकार की प्राथमिकता है कि घायल लोगों की जान किसी भी कीमत में बचाई जाए। सभी घायल लोग खतरे से बाहर हैं। 5 लोगों का दुखद देहांत हुआ है। 10 लोग घायल हैं जिनमें से 4 को प्राथमिक इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई…निश्चित तौर पर अगर किसी की लापरवाही से घटना घटी है तो सरकार कार्रवाई करेगी।”

हादसे के बाद फंसे शवों को निकाला गया

बस में फंसे पांच शवों को बाहर निकाला गया, जबकि घायलों को आनन-फानन में उपचार के लिए सीएचसी मरदह भेजा गया। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद सभी को रेफर कर दिया गया। दो लोगों को मऊ और आठ लोगों को गाजीपुर जिला अस्पताल भेजा गया। कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर, मंडलायुक्त कौशल राज शर्मा, डीआईजी ओम प्रकाश सिंह ने भी जिला अस्पताल पहुंचकर घायलों का हालचाल जाना।

परिवार ने लगाया पुलिस पर आरोप

प्राप्त जानकारी के अनुसार बारात सीएनजी बस में सवार होकर कोपागंज से गाजीपुर के मरदह के महाहर जा रही थी, पुलिस ने मरदह जाने वाले रास्ते पर बस को जाने से रोक दिया, इसके बाद नहर की तरफ जाने पर हाई टेंशन तार की चपेट में आने पर बस तुरंत आग लग गई।

परिवार ने लगाया पुलिस पर आरोप

महिला ने कूदकर बचाई जान,


बस में सवार एक महिला ने कूदकर अपनी जाच बचाई। उसने बताया कि बस में महिलाओं के साथ बच्चे भी सवार थे। विवाह में जाने के लिए लोग हंसी-खुशी जा रहे थे। हादसा अचानक हुआ। जब तक लोग बचते तब तक आगे ने विकराल रुप ले लिया था। चंद सेकंड में पूरी आग जल उठी।

बस हादसे का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिया संज्ञान

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजीपुर हादसे का संज्ञान लिया। मुख्यमंत्री ने मृतकों के शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने झुलसे लोगों को तत्काल अस्पताल पहुंचाकर जिला प्रशासन के अधिकारियों को उनके समुचित उपचार के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की भी कामना की है। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन के अधिकारियों को मौके पर पहुंचकर राहत कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। सीएम के अनुसार, मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख की आर्थिक सहायता दी जाएगी। वहीं, झुलसे लोगों को 50-50 हजार की सहायता देने का ऐलान हुआ है।

हादसे में झुलसे ये लोग


पवन (13) पुत्र बालकिशुन निवासी खिरिया, जिला मऊ, उर्मिला (30)- निवासी जिला मऊ, आर्यन (7) पुत्र अरविंद- निवासी भलया जिला मऊ, संगीता (30) पत्नी अरविंद- निवासी भलया जिला मऊ, रंजन (18) पुत्री फूलचंद- निवासी भलया जिला मऊ, नैंसी (19) पुत्री दिनेश- निवासी खिरिया काजा जिला मऊ, निर्जला सरोज (17) पुत्री दिनेश- निवासी खिरिया काजा जिला मऊ, अंश (5) पुत्री अरविंद- भलया जिला मऊ, पूजा (24) पत्नी गोविंद- निवासी कोनाहित, जिला मऊ व दिनेश कुमार (38) पुत्र फूलचंद खिरिया काजा, जिला मऊ


1 thought on “गाजीपुर: बस हादसे में गई कइयों की जान, हाई टेंशन लाइन के संपर्क में आने से बस में लगी आग, मुख्यमंत्री ने किया मुआवजे का ऐलान”

Leave a Comment