जयपुर: फोर्टिस अस्पताल के तार जुड़े इंटरनेशनल किडनी रैकेट से, गुड़गांव से पकड़ा गया बांग्लादेशी डोनर, जाने क्या है पूरा मामला

Spread the love
image credit istock

जयपुर: फोर्टिस अस्पताल के तार जुड़े इंटरनेशनल किडनी रैकेट से, गुड़गांव से पकड़ा गया बांग्लादेशी डोनर, जाने क्या है पूरा मामला

जयपुर: फोर्टिस अस्पताल के तार जुड़े इंटरनेशनल किडनी रैकेट से, गुड़गांव से पकड़ा गया बांग्लादेशी डोनर, जाने क्या है पूरा मामला, सी.एम. फ्लाइंग और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गुड़गांव में किडनी रैकेट का भंडाफोड़ किया है। यह रैकेट राजस्थान के जयपुर में चलाया जा रहा था। टीम ने गुड़गांव के सैक्टर- 39 के बाबिल पाला होटल में रेड की तो उन्हें बंगलादेश मूल का मोहम्मद शमीम नाम का युवक मिला जिसकी किडनी को जयपुर फोर्टिस अस्पताल में निकाला गया था। जिसे इसी होटल में डे केयर दिया जा रहा था। टीम ने गेस्ट हाऊस में ठहराए गए किडनी ट्रांसप्लांट कराने वाले 4 मरीजों को पकड़ा है। वहीं पुलिस ने रैकेट संचालक सहित अन्य पर मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। सी.एम. फ्लाइंग और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गुड़गांव में किडनी रैकेट का भंडाफोड़ किया है।

यह भी पढ़ें बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के नाम जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट, जाने क्या है पूरा मामला

इंटरनेशनल किडनी रैकेट मामले में स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सी.एम.ओ. डॉ. पवन चौधरी ने बताया कि सी.एम. फ्लाइंग को सूचना मिली कि गुड़गांव में एक होटल के जरिए किडनी प्रत्यारोपण रैकेट चल रहा है। इस पर स्वास्थ्य विभाग के डी.एम.एस. डा. मनीष राठी, सर्जन डा. विषेक व सी.एम. फ्लाइंग के इंस्पेक्टर धर्मवीर, एस.आई. मदन, ए. एस. आई. अशोक की टीम ने सैक्टर-39 के बाबिल पाला होटल में रेड की। यहां गैस्ट हाऊस संचालक रोहित मिला और उसने गेस्ट हाऊस में ठहरे लोगों बारे जानकारी दी।उधर फोर्टिस हेल्थकेयर स्वास्थ्य देखभाल में उच्चतम नैतिक मानकों के लिए प्रतिबद्ध है, अंग प्रत्यारोपण के लिए एसओटीटीओ प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करता है। प्रोटोकॉल के अनुसार, राज्य प्राधिकरण समिति द्वारा अनुपालन के लिए प्रत्येक मामले का गहन मूल्यांकन किया जाता है और आवश्यक सरकारी अनुमोदन प्राप्त किया जाता है। प्रक्रियात्मक विचलन के प्रति हमारी शून्य सहिष्णुता की नीति है और हम रोगी की सुरक्षा, देखभाल और पारदर्शिता और नैतिक प्रथाओं के लिए प्रतिबद्ध हैं।

इंटरनेशनल किडनी रैकेट मामले में थाना प्रभारी का है यह कहना

सदर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर अर्जुन देव ने कहा कि सदर थाना पुलिस ने रैकेट संचालक सहित अन्य पर केस दर्ज कर छानबीन शुरु कर दी है। गिरोह को संचालित करने वाला मुख्य आरोपित मोहम्मद अंसारी सहित अन्य फरार हैं। आरोपितों की तलाश में छापेमारी जारी है। जल्द ही एक टीम जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में जाकर भी पूछताछ करेगी।

इंटरनेशनल किडनी रैकेट मामले में अस्पताल के कर्मचारियों से थी मिलीभगत

गेस्ट हाउस में मिले मरीजों से पूछताछ में पता चला कि मोहम्मद अंसारी नाम का युवक इन सभी को यहां लेकर आया था। जिन मरीजों का ट्रांसप्लांट नहीं हुआ था, उन्हें जयपुर के फोर्टिस अस्पताल ले जाने के लिए कहा गया था। वहीं दो मरीजों का ट्रांसप्लांट फोर्टिस से कराकर यहां लाया गया था। यह भी पता चला कि एजेंट अंसारी की जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में कुछ कर्मचारियों के साथ मिलीभगत थी।

पहले भी पकड़ा गया था किडनी रैकेट

किडनी रैकेट का गुरुग्राम में यह कोई पहला मामला नहीं है। साल 2008 में भी इसी तरह का एक मामला पालम विहार क्षेत्र में सामने आया था। जहां उत्तर प्रदेश से लोगों को लाकर उनकी किडनी निकाली जाती थी और यह किडनी संयुक्त राज्य अमेरिका, युनाइटेड किंगडम, कनाडा, सउदी अरब और ग्रीक के ग्राहकों को प्रत्यारोपित की जाती थी। इस घोटाले के आरोपी

ऑर्गन ट्रांसप्लांट की फर्जी NOC सर्टिफिकेट मामला


चिकित्सा शिक्षा विभाग ने EHCC और फोर्टिस अस्पताल के ट्रांसप्लांट सेन्टर का लाइसेंस निलम्बित
तीनों आरोपियों को एसीबी ने लिया 3 दिन के रिमांड पर

इंटरनेशनल किडनी रैकेट मामले में फर्जी दस्तावेजों पर पासपोर्ट बनाकर 2 महीने पहले भेजा था भारत

इंटरनेशनल किडनी रैकेट मामले में टीम को मौके पर बंगलादेश मूल का शमीम नामक व्यक्ति मिला जिसकी किडनी निकाली जा चुकी थी। शमीम ने बताया कि वह बंगलादेश में मोबाइल शॉप चलाता है। फेसबुक पर किडनी प्रत्यारोपण का विज्ञापन देखकर उसने झारखंड के रांची निवासी मोहम्मद मुर्तजा अंसारी नामक एजेंट से संपर्क किया। जिसने बंगलादेश की करंसी के मुताबिक उसे 4 लाख टका दिए जाने का सौदा तय किया। यह राशि लेकर उसने किडनी देने के लिए लिए डील फाइनल कर दी। एजेंट ने ही उसके फिंगरप्रिंट लेकर उसका फर्जी पासपोर्ट बनवाया और करीब 2 महीने पहले भारत भेज दिया। यहां उसका फोर्टिस अस्पताल जयपुर में ऑप्रेशन किया गया और कुछ दिन पहले ही उसे गुड़गांव में शिफ्ट किया गया है।सदर थाना प्रभारी इंस्पैक्टर अर्जुन देव ने कहा कि सदर थाना पुलिस ने रैकेट संचालक सहित अन्य पर केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। मुख्य आरोपी मो. अंसारी सहित अन्य फरार हैं। आरोपियों की तलाश में छापेमारी जारी है। जल्द एक टीम जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में जाकर भी पूछताछ करेगी।

1 thought on “जयपुर: फोर्टिस अस्पताल के तार जुड़े इंटरनेशनल किडनी रैकेट से, गुड़गांव से पकड़ा गया बांग्लादेशी डोनर, जाने क्या है पूरा मामला”

Leave a Comment