लखनऊ: कैसरबाग बस डिपो के कंडक्टर ने जब सरकारी पैसे से खेला सट्टा

Spread the love

लखनऊ: कैसरबाग बस डिपो के कंडक्टर ने जब सरकारी पैसे से खेला सट्टा

लखनऊ: कैसरबाग बस डिपो के कंडक्टर ने जब सरकारी पैसे से खेला सट्टा , उत्तर प्रदेश लखनऊ के कैसरबाग डिपो रोमें काम करने वाले कंडक्टर ने सवारियों से मिले किराए के पैसों को आईपीएल सट्टे में लगा दिया। जब विभाग को इस बात की जानकारी हुई तो विभाग ने चुपके खजाने में रुपये जमा करा दिए। हालांकि इस मामले में विभागीय जांच शुरू कर कंडेक्टर को निलंबित कर दिया गया है।

यह भी पढ़े आज का राशिफल

मिली जानकारी के मुताबिक, लखनऊ कैसरबाग डिपो में काम करने वाले पंकज तिवारी कंडक्टर जो रोडवेज बस के साथ दिल्ली गया था। वहां से देहरादून होकर 8 अप्रैल को लखनऊ वापस आ गया था। इस सफर के दौरान उसे लंबी दूरी के यात्रियों को टिकट के करीब 65 हजार रुपया कैश बैग में मिले थे, इन पैसो को उसे 9-10 अप्रैल को डिपों में जमा करना था, लेकिन कंडक्टर ने ऐसा ना करते हुए 10 दिनों तक पैसा लेकर गायब हो गया। बाद में पता चला कि इस रकम को उसने आईपीएल सट्टे में लगा दिया। शुरुआती जांच में कैसरबाग बस स्टेशन इंचार्ज एसके गुप्ता की भी मिलीभगत सामने आई है। ये एसके गुप्ता ही जिम्मेदारी है कि कैश बैग को बैंक में जमा कराएं, लेकिन उन्होंने कई दिनों तक मामला दबाए रखा। जब मामला सामने आया तो उन्होंने चुपके से कैश बैग को जमा करवा दिया।

आरोप है कि कंडक्टर पंकज तिवारी कैश बैग ज्यादातर जमा नहीं करता है या फिर देर से जमा करता है। हालांकि इस पूरे मामले में कंडक्टर से जबाव तलब किया गया है। फिलहाल उसे ड्यूटी से हटा दिया गया है और इस मामले में जांच शुरू कर दी गई है। कैसरबाग डिपो के एआरएम अरविंद कुमार के मुताबिक, इस पूरे मामले पर कंडक्टर से पूछताछ की गई है। फिलहाल कंडक्टर ड्यूटी से हटा दिया गया है और जांच शुरू कर दी गई है जो भी इसमें जिम्मेदार लोग शामिल होंगे सभी पर कार्रवाई की जाएगी।

1 thought on “लखनऊ: कैसरबाग बस डिपो के कंडक्टर ने जब सरकारी पैसे से खेला सट्टा”

Leave a Comment